शुक्रवार, 9 फ़रवरी 2018

बरियाती



ओना हम अनदिना घण्टों पूजा-पाठ करेत छी,मुदा जखन कखनहुँ नोत पड़ैत अछि किंवा बरियाती जएबाक हकार देल जाइत अछि तँ पूरा ताकति लगा कए सभसँ पहिने अपन  मैलका गमछा साफ करएमे लागि जाइत छी।

ओना हमर गमछा कोनो ततेक पुरान नहि अछि,मुदा समस्या तँ छैक साबुनक।मैल तँ बैसलि-बैसलि चिपरी जकाँ भए गेल रहैत छैक।तेँ बूझल जाए जे तिन-चारि घंटा धरि लगातार परिश्रम कअलोपरान्त ओकर पियरी नहि छुटैत छैक।कुर्ता तँ अपन अछि नहि ,तेँ मंगनी करबाक हेतु अतिशय तत्पर होमए पड़ैत अछि। ओना आब गाम घरमे कपड़ा लत्ताक कोनो कमी होइक से बात नहि। से-से प्रकारक कपड़ाक चलनि भए गेलैक अछि जे ओ पहिरने तँ एकदम जोकर जकाँ लगैत अछि। एक खण्ड धराउ धोती पाँच-सात बर्खसँ अछि आ ओकर उपयोग मात्र एहने-एहने अवसर पर होइत रहलेक अछि आ तेँ ओ बचलो अछि।

कतेक दिन सँ प्रतीक्षामे छलहुँ जे बरियाती क्यो लए जाइत।ओना हमर नाम लोक रिजर्व लिस्टमे रखने अछि।तकर कारण हमर कोनो आन गुण नहि थिक। हमरामे एकमात्र विशेषता ई थीक जे हम जाहि बरियातीमे रहैत छिऐक से किछु ने किछु नाम अवश्ये करैत अछि।ओना हमर नामो लम्वोदर अछि।नाम ओ गुणक ऐकठाम समावेश दुर्लभे।मुदा हमरा संगे से नहि अछि। हम १००-२०० रसगुल्ला पनपिआइमे देखि लैत छिऐक।धरि तेँ की? बरियातीक बाते किछु आओर छैक। ओतए तऽ युद्ध पर युद्ध होइत छैक आ ओहि मे विजय प्राप्त करब कम पौरुखक बात नहि थिक।

ओहि दिन घुड़ लग बैसल छलहुँ के क्यो गप्प लाड़लक जे सिद्धु बाबूक पुत्रक विआह परसु धार लगक गाममे  तय भेलनि अछि।तखन सँ बुझल जाए जे जिह सँ पानि खसए लागल।कहुना कोशिश मे रही जे बरिआतीक आग्रह होअए ।कतेक दिन सँ भरिपेट्टा नहि भेल छल आ तेँ प्रवल इच्छा भेल जे बरियाती हम अवश्य जाइ।

प्रात भेने दतमनि करैत सिद्धु बाबू ओहिठाम पहुँचलहुँ कि ओ अपनहि सँ विआहक चर्चा उठा देलनि।फेर बजला जे बरिआती मात्र एगारहटा आनए हेतु कहलक अछि।एतबा सुनिते जेना हमरा मोनो पानि पड़ि गेल।मुदा धन्यबाद दी भगवान के जे सिद्धु बाबू हमर मोनक बात ताड़ि गेलाह आ झट दए कहि उठलाह-हे ! हम अपनेक हेतु कुर्ताक इंतजाम कए देल अछि,अवश्य जयबैक।सैह भेलैक।ओहि दिन भोरे सँ हम बरियाती जेबाक तैयारी प्रारंभ कए देल।

गोर मासक धक लागल छल।जाड़क मास छल। पानिक डरे तऽ होअए जे पनिछुआ धरि छोड़ि     दी।मुदा ओहि दिनभोरे उठिकए स्नान कएलहुँ आ सोडरमे डुबा गमछाकेँ पटकए लगलहुँ।ओ गमछा अपना आपमे नमूने छलैक।दस बजे धरि पटकेत-पटकैत जखन हाथ पैर थाकि गेल आ सर्दी सँ सौंसे देह दुलकए लागल,स्थिर भए गेलहुँ मुदा गमछामे चमक अखन धरि नहि अएलैक।की करी?फेर ओहि गमछाकेँ सुखाए दए देलहुँ आ स्वयं दुर्गा पाठ प्रारंभ कएल।

दुर्गा देवीक कृपासँ हमरा भोजन करबाक ओ पचेबाक असाधारण शक्ति प्राप्त अछि।रुपं  देहि जयं देहि यशो देहि" मंत्रक पाठ कएलाक बाद भूख अपन चरम सीमा पड़ छल।नेबो बाड़िएमे छल।नेबो तोरि पानिमे मिलाए भरि लोटा पानि गट-गट पीबि गेलहुँ।फेर तऽ बूझल जाए जे घंटा भरिक बाद पेट एकदम फिट भए गेल आ बरह बजे दिनसँ बरियाती जेबाक हेतु तेयारी प्रारंभ कए देल गेल।कुर्ता मंगनी कएल आ सभसँ पहिने सिद्धु बाबू ओतए हमही पहुँचलहुँ।

ओना आब लोक एडवांस भए गेल अछि आ बरियाती सभकेँ कोनो खास परेशानी नहि होइत छनि।मुदा कहबी थीक जे गेलहुँ नेपाल मुदा करम गेल सँगे।बीच रस्ते मे छलहुँ कि पेट गड़-गड़ बाजए लागल आ लगैत चल जे सौँसे पेटसँ जेट विमान छुटि रहल अछि।कएक बेर पोखरि दिस गेलहुँ। तकर बादो लगैत छल जे पेट फुलले चल जा रहल अछि।अन्तमे हारि कए एकटा गाछ तर बेसलहुँ क एकटा नढिआ बाम सँ दहिन भेल।बुझा गेल जे कोनो अशुभ भए गेल। मुदा बरियाती जेबाक अवसर तऽ कतेक दिनक बाद भेटल छल।जा धरि पेट रहत कहिओ नीक कहिओ खराप होइते रहत।मोने मोन हनुमान चलीसा पढैत आगा बढए लगलहुँ  कि लागल जेना सौँसे धोतीमे बमपाट भए गेल।माथा हाथ दए बैसि गेलहुँ।

दर-दुनियाँ मे एकटा धोती छल।सेहो एन मौका पर खराप भेल चल जाइत चल कि बेसुम्हार दौड़लहुँ।सभकेँ हमरा दए होइक जे बरियाती जयबाक जोशमे दौरि रहल छी।मुदा हमर बात तऽ दोसरे छल।की करी से बुझा नहि रहल छल।किछु दूर पर पोखरि भेटल।कपड़ लत्ता केँ खिचि कए सुखाए दए देलिऐक।अपने गमछी पहिरि बैसि गेलहुँ।दम फुलि रहल छल तैयो भिजले धोती पहिरि आगा बढलहुँ।ताबे आओर बरियाती सभ अगुआ गेल छलाह।कहुना कहुना कए एगारह बजे रातिमे बरियाती सभ पहुँचल।

बरियातीक पहुँचैत गामसँ विआहक गीत सुनाए पड़ए लागल कि हमर छाती उपर नीचा होमए लागल।पेट फुलिकए तरेरा लागि गेल छल।मुदा एतबा तँ अवश्य जे हम जानो पर खेलि कए बरियातीकेँ सफल बनयबाक हेतु दृढ संकल्प कएलहुँ।किछु कालक बाद दरबाजापर पहुँचतहिँ पानि पड़ए लागल छल।लोक सभ धड़फड़ाए आगा बढ़ल चल जा रहैत छलाह कि आगा लाइटक प्रकाश पर आँखि चोन्हिआ गेल।छपाकसँ खसलहुँ।चारू कातसँ ठहाका पड़ल।उठलहुँ तँ कपड़ा लत्ता खराप भए गेल।मोन तँ घोर भए गेल।होइत छल की करी,की नहि? हारि कए पुआड़क टालक औढ़मे चलि गेलहुँ आ ओहीठाम थाल सभ पोछलहुँ।खैर....हमरा लोकनि पहुँच गेलहुँ सएह कोन कम।

बरियातीक स्वागतक तैयारी धूमधामसँ कएल जा रहल छल।थोड़ेक कालक बाद बड़का बड़का पिलेटमे जिलेबी,मुंगबा,आदि मिठाई सभ परसाय लागल।ओमहर बरक परिछन करबाक हेतु सेहो स्त्रीगण सभ तत्पर भए गेल छलीह।वरके सकपकाएल देखि हम हुनका स्त्रीगण सभ लग लए जेबाक इशारा कएलिअनि की स्त्रीगण समेत सभ गोटे हमरा अँखिआबए लागल।भेल पराभव। अन्ततोगत्वा कहुनाकए जान छोड़ा मिष्ठान्न सभ पर टुटलहुँ । एतवहिमे भयंकर आवाज भेल।चारु दिस लोक ठहाका देबए लागल।की भेल?की भेल?एतबहिमे परिछाएल जे हमर पेट बाजल छल।मुदा हमरा तँ कोनो सुधिए नहि छल।चाह पान पिलाक बाद हमरा लोकनिक परिचयक क्रम प्रारंभ भेल।हमर आँखि लागए लागल कि क्यो खुरलुच्ची छौँड़ा मुँहमे किछु राखि देलक।थू थू कए ओकरा बाहर कएल।चारु दिस सभ लोक सहटि कए हमरे लग आबि गेल। की करी? की नहि,किछु बुझा नहि रहल छल।

कहलिअनि हमर जान बहार भए रहल अछि आ अहाँ लोकनि हेतु धन सन।कहाँ गेल ओ खुरलुच्च छौड़ा?एतबहिमे क्यो कहलक जे ई सभ चहु दाँतक टुटि गेलाक कारणसँ भए रहल छल।मुँहमे पाथरक टुकड़ी धए देने छल । हम ओकड़ा सुपाड़ी बुझि कुड़कुड़ाबए लगलहुँ। हमर चारू चौह पहिनेसँ हिलि रहल छल।

कनिके जोर पड़ितहि तर दए टुटि गेल।साहस कएलहुँ।दबाइ-दारु लगाओल।क्रमशः मोन शांत भए गेल।आंगनसँ भपाइत सुगंधके सूंघि-सूंघि मोन आगा-पाछा करए लागल।घंटा दू घंटा एहि तरहे घोलफचक्का केलाक बाद बिझो भेल।हमरा कतहुसँ जानमे जान आएल।

सभसँ बड़का पीढ़ी चूनिकए बैसलहुँ कि टांग पिछड़ि गेल।पीढ़ी तरमे किछु पिछड़ाह राखल छल।पएरमे मोच पड़ि गेल।चुप्पे रहि गेलहुँ मुदामोन तामसे गोर भए गेल छल।रंग वरंगक मिष्ठान्न एवम् अन्य भोजनक सामग्री सभ देखि तामस किछु कम भेल।खाइत खाइत पेट तरास लागि गेल।भगवान हमरा हजारमे एकटा गुण देने छथि जे खाइत काल क्यो कतबो खौंझाबए हम टससँ मस नहि भए सकैत छी।पेटतऽ पहिने सँ गड़बड़ छलहे।ताहु परसँ फेर डबल भोजन देलिऐक।दरबाजा पर पैर धरितहि पेट फूलए लागल।सुधि हरा गेल।डाक्टर बजाओल गेल।दबाइ दैत छल।मुदा पेटमे तऽ कंठ धरि अन्न ठूसल छल।कहलिअनिः

हे! हमरा दबाई जोगर जगह रहैत तखन एकटा छेना आओर नहि खा लितिऐक?”

सूई लागल।प्रात भेने अधमरु भेल गाम पहुँचाओल गेलहुँ।


अपने हाथे भोँट देबैक?




 




अपने हाथे भोँट देबैक?



गाममे कै बेर कै तरहक चुनाव होइत रहल अछि। मुखियाक चुनाव, एमएलए-एमपीबला चुनाव कहि नहि कै बेर भेल। ज्योँ-ज्योँ समय नजदीक अबैत अछि चुनावक धाही गाममे सद्यः भए जाइत अछि। सौंसे गोलबन्दी। दरबज्जे-दरबज्जे काना-फूसी आ रहि-रहि कए भदबारिक मेघ जकाँ माइकपर घोषणा माने प्रचार-

भाई लोकनि! एहि बेर नहि बिसरब। सामाजिक क्रान्ति अनबाक हेतु विषमता मिटयबाक हेतु फल्लाँ पार्टीक फल्लाँ उमेदबारकेँ अबश्य भोँट दी। तखने अहाँक राज होएत। आदि-आदि।

लगैत रहैत अछि जेना सौंसे देशक भविष्य ओही गाममे तय भए रहल अछि। एक भाई एमहर तँ दोसर भाई ओमहर।कतेक ठाम तँ एकहि घरमे चारि-चारिटा पार्टी बनल अछि। रंग-बिरंगक पोस्टर, तगमा आ नाना प्रकारक नारा सभ चारूकात देखबा-सुनबामे अबैत रहत। चौकपर कै पार्टीक आफिस खुजत। ओहिमे एकदम चौपट आ बेकार लोक सभ पीठासीन अधिकारी हेताह। जे होइ, किछु मुँहगर आ चलता-पूर्जा लोक सभकेँ चुनावक समयमे नीक आमदनी भए जाइत छनि आ प्राय: तेँ वो सभ प्राण प्रणसँ चुनाव-कार्यमे भिरि जाइत छथि।  

गाममे बहुत साल पूर्व एकटा चुनाव भेल छल। मुखियाक चुनाव। लगैत छल जे उनटन भए जायत। भयानक तनाव भए गेल छल। गाममे कैटा गुट अछि। जँ एकटा गुट एकटा उमेदवारक समर्थन होएत तँ निश्चय दोसर गुट ओकर विरोधीक संग  दए देत जातिबादक सेहो प्रमुख महत्व रहैत अछि। मुदा ताहूसँ बेसी महत्व रहैत अछि आपसी रंजिस आ गुटबन्दीक।

ओहि समयमे हम बच्चा रही। गाममे किछु गोटे तथाकथित क्रान्तिकारी कहबैत छला। ओइ ओहि क्रान्तिक भग्नावशेषो नहि भेटत। मुदा ओहि समयमे ओ सभ युवक छलाह आ सौंसे गामकेँ अशान्त करबाक ठेका लऽ लेने छलाह। सही मानेमे कहल जाय तँ गाममे धनीक अछिये के? मुदा ओ सभ क्रान्तिक नामे व्यक्तिगत ईर्ष्या-द्वेष ओ आपसी दुश्मनीकेँ समाधान कए रहल छलाह। ओहि मुखियाक चुनावमे सेहो हुनका लोकनिक बेस योगदान छल।

दुपहर रातिमे भयानक गर्जना बुझायल। बहुत रास लोक सभ विरोधी सभकेँ नामसँ गारि पढ़ैत आगा बढ़ि रहल छलाह। इन्नकिलाब, जिन्दाबादक नारा बुलन्द भए रहल छल। मुखियाक चुनावक परिणाम बहार भए गेल छल। परिणामस्वरूप विजीत गुट विजयोन्मादमे पराजित गुटक धज्जी उड़ा रहल छल। समाजक पतन कोन हदतक भए रहल छल से सोचि अखनो गुम्म होमय पड़ि जाइत छी, कारण अपनहि लोकक विरूद्ध असभ्य ओ अपमानजनक भाषाक जनिक प्रयोग भेल छल। चुनावक बादो कै दिन धरि गरमा-गरमी रहल। क्रमश: गाम सामान्य स्थितिकेँ प्राप्त केलक।  

परिवर्त्तनक ग्रामीण अनुबाद जँ  करए लागब तँ अर्थ लागत धोतीक बदला लुँगी, फुलपैंट आ कमीज कहक मानेजे ओहिमे कोनो गुणात्मकता नहि अछि। रूपात्मक परिवर्त्तन भने भेल होइक। जहिना पहिने किछु गोटेक वर्चस्व रहैत छलैक ओहिना अखनो किछु गोटे दबंग अछि। शेष लोक ढोलिया, पिपहीबला बनल अछि। चुनावक अवसरपर किंवा एहने कोनो आन-आन अवसरपर यैह सभ बुझनामे आओत।

गाममे एमपीक चुनाव होइत छल। चौकपर रंग-बिरंगक पोस्टर सभ लागल रहय। नेता सभक गरम-गरम भाषण होइत छल आ सभ एक दोसरकेँ बुझाबक कोशिशमे लागि जाइत। चुनावक दिन पोलिंग बूथपर तीनटा पार्टीक एजेन्ट बैसलाह। रहि-रहि चैलेन्ज भए जाइक। लगैक जे की भए रहल अछि की नहि। साँझ धरि लोकक क्रम बनल रहल आ भरि दिनमे आधो मत नहि पड़ल । बोगस पोलिंग तँ एकहुटा नहि भए सकल। 

कै सालक बाद फेर हम चुनावेक बीच गाम गेल रही। अधिकांश लोक एक दल विशेषक तरफ छल। गामक दूटा युवक लोकनि पोलिंग बूथपर भोरेसँ मोस्तैद छलाह। बीचमे बोगस पोलिंग होमय लागल। कि दुनू गोटे जमि कए विरोध केलक। पुलिस सभ हरकतमे आएल आ जनता जे बूथकेँ घेरि लेने छल, तेकरा खिहारलक। सभ यैह-ले वैह-ले भागल। थोड़ेकालमे बूथपर पुलिसटा छल आ रहि गेल छल मतदान अधिकारी सभटा भोँट मतदान अधिकारी सभ बोकस पोल करेलक। सेंट-परसेंट पोल।

तकर बाद फेर एक बेर भोँट भेल। ओहिमे ककरो अन्दर-बाहर जयबाक परेशानी नहि छल। मतदाता सभ अपन-अपन घरमे विश्राम कय रहल छलाह आ मतदान सत-प्रतिशत भए गेल। से कोना भेल? ताधरि बूथ कैप्चरक कल्चर विकसित भए गेल छल। नेता सभ गामक सिरगर पाँच-सातटा लंठ लोक सभकेँ पकड़ि लेने छल। बूथ कैप्चर भए गेल छल। पोलिंग ऑफिसरसँ लऽ कए पीठासीन अधिकारी धरि  सभ गोटे आराम कए रहल छलाह आ भोँटक काज चलि रहल छल। तीनि-चारि गोटे धराधरि मोहर मारि रहल छल। दू गोटे बैलेटकेँ मोरि रहल छल आ एकटा नमगर सन सज्जन बैलेटकेँ अन्दर कए दैत छलाह...।

हम साहस कए मतदान केन्द्र तक गेलहुँ। बूथ कैप्चरींग स्क्वायडक एकटा युवक पूछलाह-

अपने हाथे भोँट देबैक?”

हम चुपे रहलहुँ। एताबत दूटा बैलेट पेपर एकटा सज्जन आनि कए देलाह। हम एकटा घुरा देलियनि। मोहर टुटि गेल छल। कहुना कए रबरकेँ कागजसँ सटाओल। मतदान  कएल। मुदा जे देखल ताहिसँ नहि बूझि सकलहुँ जे दस वर्षक बाद ई कोन रूप लेत?




Life is an opportunity

Life is an opportunity   Millions of people have come and gone but nobody remembers them. Only a few persons like Vyas, Shankarachary,Vi...